Wednesday, December 08, 2004

Aaj ki bakjhak

Great Stories these two:
http://us.rediff.com/news/2004/dec/08mohini1.htm
http://www.bbc.co.uk/hindi/entertainment/story/2004/12/041206_javed_strugle01.shtml
ऐक मिनिट को तो हम आशावादी हो गऐ थे |

लेपटाप का ईस्तेमाल सोच कर करें http://www.hindu.com/thehindu/holnus/001200412091020.htm?headline=Laptop~computers~%60threaten~fertility'

आज हमें परदेसी होने का ऐहसास फिर कराया गया जब हमसे "Arranged Marriage" के बारे में पूछा गया |
मन तो किया की जबर सुनायें | खैर हमने घुमा फिरा कर अमेरीका मैं तलाक के ज्यादा मामलों के बारे में सुनाया | धो धो कर नही दे पाऐ क्योंकि वीभिषण साथ थे | कौऍ टाईप की शकल है, ऊरई गाँव के दिखते हैं पर बन रहे थे अमेरिकन | लगे हुऐ थे अपने ही देश की मारने में | आखिर हम पूछ ही लिये की लल्ला तोहार बिटिया का शादी कैसे तय करोगे, यहाँ के तरीके से की देश के ? आग काफी देर तक रही |

4 Comments:

Blogger अनूप शुक्ला said...

अभी तक सरकारें परिवार नियोजन के लिये जितनी योजनायें चला रही हैं
उनमें एक और नया आयाम जुड़ सकता है--लैपटाप लगाओ-परिवार नियोजन अपनाओ.मंहगा पर सुरक्षित तरीका.

12:37 AM  
Blogger Jitendra Chaudhary said...

लैपटाप लगाने वाला तरीका काफी मंहगा पड़ेगा, हमारा देश गरीब है
भाई इसके मूल मे जाने की जरूरत है, लेख बोलता है कि लैपटाप का तापमान, पुरूष के अन्डकोष के तापमान को प्रभावित करता है, इससे शुक्राणु के उत्पन्न होने मे बाधा, पहुँचती है.
तो फिर भइया,क्यों ना शयनकक्ष के अन्दर एक ताप कक्ष(Heating Chamber) बनाया जाय, जब मूड हो , चैम्बर से निकलकर..................................

ना कोई गड़बड़ ना कोई घोटाला, जब घर मे लगा हो तापकक्ष का ताला

1:30 AM  
Blogger इंद्र अवस्थी said...

कुछ लोग पोप से भी ज्यादा कैथोलिक बनने की कोशिश करते हैं. वैसे क्या बातें हुईं यह भी लिखा जाय तो विभीषण पर चलाये ब्रह्मास्त्र का मजा दुगुना हो जाय!

6:33 PM  
Blogger आलोक said...

आग बुझ गई क्या?

6:33 PM  

Post a Comment

<< Home